Saturday, 14 December 2013

Rajan Iqbal digest 1 at discounted price



राजन-इकबाल रीबॉर्न सीरीज़ डाईजेस्ट १: राजन इक़बाल की वापसी + मौत का जादू

Rajan Iqbal Reborn Series digest 1 (Rajan Iqbal ki Vapsi + Maut ka Jadoo)

Special improved edition - Larger size, more pages (100) than original (74), Large and better font.
All this at a discounted price

At just Rs 149, SHIPPING FREE. Order today:




For buying directly from author at Rs 110, lowest possible price (no shipping charge for India), mail- rajaniqbal999@gmail.com




Saturday, 23 November 2013

SC Bedi- Rajan Iqbal- Foolon ki ghaati & Roshni ka Gola

एस सी बेदी
कृत
बाल सीक्रेट एजेंट 999 राजन इक़बाल

एस सी बेदी जी  की कलम से निकले दो अनूठे बाल पॉकेट बुक्स

और

नोट- ये दोनों उपन्यास अलग-अलग हैं, और एक दूसरे के पार्ट नहीं हैं.



Saturday, 17 August 2013

Rajan Iqbal Reborn Series - 6th Novel: Kabra Ka Rahasya

7 महीनों के इंतज़ार के बाद आ गया है- राजन इकबाल Reborn Series का एक और शाहकार


------कब्र का रहस्य------



इस बार जासूस चौकड़ी का मुकाबला किसी चोर-उचक्के, स्मगलर या कातिल से नहीं, बल्कि आपने देश के भ्रष्ट राजनीतिज्ञों से है. ऐसे अहम मामले पर वो अकेले काम नहीं कर रहे. उनके साथ सीबीआई के अफसर भी है. कहानी कर्णाटक के शहर सेलगाम (काल्पनिक) और वहाँ हो रहे रहस्यमय घटनाक्रम पर आधारित है

इस उपन्यास में आप लोग एक बार फिर राजन के माता-पिता कर्नल विनोद और सरोज से मुलाकात कर सकेंगे








इस कहानी के प्लाट का श्रेय जाता है- Abhijit Chitatwar (https://www.facebook.com/AbhijitGuitarRockr?fref=ts) को 

उपन्यास के ऊपर एक बेहतरीन दिल को छू देने वाली काव्य प्रस्तावना को रचने वाले Mohit Sharma (https://www.facebook.com/Trendster?fref=tsका बहुत बहुत धन्यवाद. उपन्यास की शुरुआत उन्ही की रचना से होती है.
कब्र का रहस्य (राजन इक़बाल)

Read Sample:

Kabra Ka Rahasya Sample

ये उपन्यास आप आज ही Flipkart या Infibeam पर ऑर्डर कर सकते हैं---


E-Book available on Instamojo:
Kabra ka rahasya on Instamojo

Saturday, 2 February 2013

Rajan Iqbal E Books at unbelievably low price on Instamojo and Readwhere


राजन इक़बाल रीबॉर्न सीरीज़ के उपन्यास प्रिंट के साथ अब E-Book format में भी उपलब्ध हैं. 

आभार!

शुभानन्द 


Rajan Iqbal Reborn Series'  novels are now also available in E-Book format

All the E-books are available at a unbelievably low price price.


Buy today:



Rajan Iqbal Reborn Series @ Instamojo


Rajan Iqbal @ Readwhere
Read directly on your Mobile/Tab via internet or Android application- Readwhere

एक बार फिर डूब जाइये आपने चहेते किरदारों की दुनिया में. अपने बचपन की यादें ताज़ा करें- राजन, इक़बाल, सलमा, शोभा के साथ
साथ में हैं- बलबीर सिंह (जो अब एस पी बन गए हैं), चीफ, फिंगही, जेनेट पावेल, और राजन के पिता- कर्नल विनोद, जो कि एक बार फिर लौट आये हैं.

Friday, 25 January 2013

Rajan Iqbal Reborn Series- 5th Novel: Pichhle Janam Mein



राजन-इक़बाल - पिछले जन्म में

राजन और इक़बाल पिछले जन्म में बचपन से ही पक्के यार थे, पर दुर्भाग्यवश एक हादसे में वे दोनों बिछड़ जाते हैं. उनकी मुलाकात एक बार फिर बेहद असामान्य हालत में सरहद के पास होती है, जबकि भारत और पाकिस्तान के बीच युद्ध का तनाव चल रहा  है. सलमा व शोभा के साथ उनके प्रेम की कहानी दिल को छू लेने वाली है और उसका अंत कैसा होगा ये उन चारो में से किसी ने भी नहीं सोचा था. क्या होगा सरहद पर भटक रहे इन चारों जांबाजों का जब दोनों देशों के बीच युद्ध शुरू हो जायेगा? क्या वे साथ रह सकेंगे या हमेशा के लिए एक-दूसरे से बिछड़ जायेंगे?

जानने के लिए आज ही पढ़े- राजन-इक़बाल का ये महाविशेषांक-

Download free sample-
पिछले जन्म में: Free sample

Buy Print book from various online stores:
Flipkart   Infibeam  URead  Indiatimes



Friday, 4 January 2013

Rajan Iqbal- Bhayanak Khel

SC Bedi's
बाल सीक्रेट एजेंट 999 राजन इक़बाल
भयानक खेल

एस सी बेदी की कलम से निकला एक अनूठा उपन्यास. इस उपन्यास की कहानी राजन-इक़बाल की अन्य पुस्तकों से कुछ अलग हट कर ही है. इसमें इकबाल  अकेला है, जो कि एक केस के सिलसिले में अकेले ही रतनगढ़ जाता है. मंजिल तक पहुँचने से पहले ही उसका टकराव दो हसीनो से हो जाता है.
कभी-कभी ही इक़बाल से कोई केस हल होते हुए दिखता है. हालाँकि इसमें इक़बाल की चिर परिचित बेवकूफियां भी शामिल हैं, पर फिर भी उसके  किरदार का एक नया पहलू इस उपन्यास में  उभरता दिखता है.



Download now:

उपन्यास के अंत में राजन इक़बाल रीबोर्न सीरीज की कुछ झलकियाँ भी हैं, मेरा अनुरोध है कि उन्हें पढ़े और अगर पसंद आयें तो ऑर्डर करके मंगवा लें. मेरा दावा है- नए उपन्यास पुरानी राजन-इक़बाल सीरीज से आपको दो कदम आगे ही मिलेंगे.
आभार-
शुभानन्द